Wednesday, 29 March 2017

दूषित विचार ही संसार में अशान्ति का कारण हैं

   आज  समाज  में  महिलाओं  और  बच्चों  के  प्रति  अपराध ,  उन्हें  अमानवीय  तरीके  से  उत्पीड़ित  करना ,  हत्या  कर  देना  ---- यह  सब  पशु - प्रवृति  बढ़ती  जा  रही  है  ।  इसका  कारण   हमेशा  दूषित  विचारों  की  संगत  में  रहना  ।  फिल्मों  की  अश्लीलता ,  दूषित  साहित्य  --- यह  सब  मनुष्य  के  मन  को  विषैला  कर  देते  हैं ,  जो  कुछ  व्यक्ति  फिल्मों  में  देखता  है  ,  या  ऐसे  गंदे  साहित्य  में  पढ़ता  है  ,   वही   विचार  उसके  मन  में  चलते  रहते  हैं   ।  वह  कोई  भी  कार्य  करे ,  इन  दूषित  विचारों  से  मुक्त  नहीं  हो  पाता,  उसकी  बुद्धि ,  विवेक  समाप्त  हो  जाता  है   और  वह  विभिन्न  अपराधों  में  संलग्न  हो  जाता  है  ।  बिना  श्रेष्ठ  चरित्र  के  कोई  भी  संस्कृति  जीवित  नहीं  रह  सकती  ।  ऐसे  दूषित  प्रवृति  के  लोग   अपने  परिवार ,  समाज  और  राष्ट्र  सभी  के  लिए  घातक  हैं  ।  विचार  परिष्कार  के  बिना  शान्ति  संभव  नहीं  है  । 

Sunday, 26 March 2017

संसार में अशांति का कारण वातावरण में नकारात्मकता है

 व्यक्ति  जो  भी  अच्छे - बुरे  कार्य  करता  है  उसका  प्रभाव  उस  स्थान  विशेष  के  वातावरण  पर  पड़ता
 है ।  युगों - युगों  से  शक्तिशाली वर्ग ने   अपने  से  कमजोर  को  सताया  है  ,   असहनीय  कष्ट  दिया  है  ।  इसका  कारण  विभिन्न  देशों  में  भिन्न - भिन्न  होगा ,  लेकिन  आधिक्य  उन्ही  घटनाओं  का  रहा   जिसमे  लोगों  को  बहुत  अधिक  शारीरिक  और  मानसिक  कष्ट  दिया  गया  ।  कहते  हैं   उन  उत्पीड़ित  लोगों  की  आहें  उस  स्थान  विशेष  पर  वायुमंडल  में  रहती  हैं    इसलिए   परिवार  हो  या  राष्ट्र  ----  चाहें  कितनी  भी  भौतिक  सम्पन्नता  हो  ,  इस  नकारात्मकता  के  कारण   अशान्ति  रहती  है  ।
  इससे  बचने  का  एक  ही  तरीका  है   कि  अब  वर्तमान  में  किसी  पर  अत्याचार  न  करे  ,  किसी  को  कष्ट  न  दे   और  जितना  संभव  हो  नि:स्वार्थ  भाव  से  सेवा - परोपकार  के  कार्य  करे   ताकि  इससे  उत्पन्न  सकारात्मकता  ,  वातावरण  की  नकारात्मकता  को  दूर  भगा  दे   । 

Thursday, 16 March 2017

सद्बुद्धि कैसे जाग्रत हो

    आज  संसार  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है  प्रत्येक  व्यक्ति  जाने - अनजाने  स्वयं  का  ही  अहित  कर  रहा  है  |    जब  कला ,  साहित्य ,  पर्यावरण   सभी  कुछ  प्रदूषित  है  तो  सद्बुद्धि  कैसे  आये   ?
  विचारों  में  परिवर्तन  इतना  आसान  नहीं  होता  ,  मनुष्य  अपने  विचारों  के  प्रति  बड़ा  जड़  होता  है  ,  स्वयं  को  बदलना  नहीं  चाहता   |   आज  के  इस  युग  में   जब  मनुष्य  बिना  सोचे - समझे  धन  के  पीछे  भाग  रहा  है   ,  इच्छाओं  का  अंत  नहीं  है  ,  ऐसी  स्थिति  में  सद्बुद्धि  के  लिए  एक  छोटा - सा  प्रयास  जरुरी  है  ,  वह  है ----- निष्काम  कर्म  |  नि:स्वार्थ   भाव  से   व्यक्ति  सेवा - परोपकार  का  कोई  भी  कार्य  नियमित  करे   तो  स्वयं  के  जीवन  में  , व्यक्तित्व  में  ऐसा  सकारात्मक  परिवर्तन  होगा  कि  स्वयं  को  आश्चर्य  होगा  |     अपने  धार्मिक  कर्मकांड  के  साथ  यदि  अज्ञात  शक्ति  को  याद  करते  हुए  गायत्री  मन्त्र  का  जप  कर  लिया  जाये   तो  इस  मन्त्र   की  शक्ति  को   आप  स्वयं   अनुभव  करेंगे   |   

Tuesday, 28 February 2017

अशान्ति का सबसे बड़ा कारण है ----- अनैतिक तरीके से धन कमाना

 आज  समाज   में  सद्गुणों  का  नहीं  धन  का  महत्व  है   इसलिए  लोग  भ्रष्टाचार  से ,  हर  अनुचित  तरीके  से  धन  कमाते  हैं   ।  इस  तरह  का  धन  ही  ,  यह  पाप  की  कमाई  ही  ऐसा  धन  कमाने  वाले  की   और  उसकी  सन्तान  की  बुद्धि  को  भ्रष्ट  कर  देती  है  ।  ऐसे  लोग   इस  धन  का  उपयोग  किसी  के  हित  के  लिए  नहीं  वरन   अपनी   ' गुंडई '  को  कायम  रखने  के  लिए  करते  हैं  ।
    आज  समाज  को  जागने  की  जरुरत  है    क्योंकि  जब  बुद्धि  पर  लोभ  और  स्वार्थ  हावी  हो  जाता  है   तो  व्यक्ति  के  सोचने - समझने  की  क्षमता  समाप्त  हो  जाती  है  ,  ऐसे  लोग किसी  के   सगे  नहीं  होते   अपने  स्वार्थ  के  लिए  किसी    भी   स्तर   तक  गिर  सकते  हैं  ।
आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है ---- विवेक  की ,  सद्बुद्धि  की  ।  जीवन   के  सफ़र  में  जब  ऐसे  दुर्बुद्धि ग्रस्त  लोगों  से  पाला  पड़  जाये   तो  हम  विवेक  की  ढाल  से  ही  उसका  सामना  कर  सकते  हैं की ---' सांप  भी  मर  जाये  और  लाठी  भी  न  टूटे  "    l
  सत्साहित्य  का  अध्ययन ,  निष्काम  कर्म  ,  सेवा - परोपकार करना ,  प्रार्थना  -- इन  सबसे  ही  हमारे  भीतर  समझ  विकसित  होती  है  । 

Friday, 24 February 2017

संसार में अशान्ति का कारण है ---- विषैला साहित्य

  जैसे  बीमारी  को  दूर  करने  के  लिए  दवा   के  साथ  परहेज  की  जरुरत  होती  है   इसी  प्रकार  समाज  में  लोगों  का  जीवन  सुरक्षित  हो  , अपराध  कम  हों   इसके  लिए  जरुरी  है  कि  लोगों  का  मन  शांत  हो    लेकिन  चारों  और  फैला  हुआ  अश्लील  साहित्य   मन  को  भी  जहरीला  बना  देता  है   |   कोई  एक   सुधार   कर  देने  से  समस्या  हल  नहीं  होती,  मन  को  विचलित  कर  देने  वाले  सभी  उपकरणों  पर  नियन्त्र  जरुरी  है  |  

Monday, 20 February 2017

अपनी समस्याओं का हल हमें स्वयं ढूंढना है

बड़ी - बड़ी  समस्याएं  जीवन  में  कम  ही  आती  हैं  ,  अधिकांश  छोटी - छोटी  समस्याएं  होती  हैं  जो  तनाव  उत्पन्न  करती  हैं   जिससे  छोटी  समस्या  ही  बड़ा  विकराल  रूप  ले  लेती  हैं   l
समाज  में  अनेक  लोग  ऐसे  होते  हैं  जिनमे   ईर्ष्या - द्वेष  होता  है ,  जिनका  मन  अशांत  होता  है  ,  ऐसे  लोग  अपनी  गतिविधियों  से  हमेशा  ही    अन्य  लोगों  को  परेशान  करते  हैं  ।  हम  दूसरों  को  नहीं  बदल  सकते   ।  हमें  स्वयं  विवेक  से  काम  लेना  होगा   ।   ईश्वर  विश्वास ,  प्रार्थना ,  निष्काम  कर्म  -- इन  सबसे  मन  निर्मल  होता  है    और  समस्याओं  से  कैसे  निपटा  जाये  इसकी  अन्त:प्रेरणा  प्राप्त  होती  है   ।
  लड़ाई - झगड़ा,  वाद - विवाद   से  समस्या  और  उलझती  जाती  है   ।  विवेकपूर्ण  हल  खोजें  । 

Thursday, 16 February 2017

दिखावे की प्रवृति से व्यक्ति स्वयं ही परेशान रहता

   आज  के  समय  में  अधिकांश  व्यक्ति  अपने  चेहरे  पर  एक  मुखौटा  लगाकर  रहते  हैं  |  समाज  के  सामने  उनका  एक  रूप  होता  है ,  जिसमे  लोग  उन्हें  बहुत  सभ्य,  उदार  ह्रदय  और  मिलनसार  कहते  हैं ।  लेकिन  यह  उनका  वास्तविक  रूप  नहीं  होता   ।  इस  मुखौटे  के  पीछे   वे  भ्रष्टाचारी ,  एक  शातिर  अपराधी  होते  हैं   ।   अपनी  असलियत  छुपाये  रखने  के  लिए  ही  उनका  सारा  प्रयास    होता  है   ।   ऐसे  लोग  स्वयं  अशांत  रहते  हैं  और  समाज  में  अशान्ति  उत्पन्न  करते  हैं  ।