Monday, 9 January 2017

जीवन निर्माण की शिक्षा जरुरी है

   आज  लोगों  के  जीवन  का  एकमात्र  उद्देश्य  धन  कमाना  है  ,   समस्याओं  से  भाग  कर   LIFE   को  ENJOY   करना  है    |।     धन  से  समस्याएं  एक  सीमा  तक  ही  हल  होती  हैं  ,  यदि  हमें  जीवन  जीना  आ  जाये  तो  धन  भी   कमा  लेते  हैं ,  खुशियाँ  भी  मना  लेते  हैं    और  जीवन  भी  सरलता  से  ,  शान्ति  से  चलता  है  ।  सुख  तो  मन  का  होता  है  ,  एक  व्यक्ति     सुख - साधनों  पर   लाखों  रूपये  खर्च  करके  भी   उदास  है  ,  जीवन  में  खालीपन  है  तो  दूसरी  ओर   सूखी   रोटी  खाकर  भी  एक  व्यक्ति  खुश  है   ।
    अच्छाई  और  सच्चाई  के  रास्ते  पर  चलने  वालों  को  दुनिया  चैन  से  जीने  नहीं  देती  ,   लोगों  के  प्रहार   एक  परीक्षा  हैं  ,   ईश्वर विश्वास  और  निष्काम  कर्म  की  ताकत  से  ही  जीवन  में  सफल  हुआ  जा  सकता  है   । 

Sunday, 8 January 2017

समाज में शान्ति के लिए जरुरी है कि पुरुष और नारी दोनों ही एक दूसरे के महत्व को स्वीकार करें

  मनुष्य  एक  सामाजिक  प्राणी  है  ,  पुरुष  और  नारी   ही  इस  समाज  में  हैं   और  आधुनिक  युग  में  जी  रहे  हैं    लेकिन    चेतना  विकसित  नहीं  हुई   |  स्वतंत्रता  ,  स्वच्छंदता  में  बदल  गई    और   किसी  प्रकार  का  भय ,  रोक - टोक  न  होने  से  मनुष्य  के  भीतर  छिपा  हुआ  पशु   जाग  जाता  है  ,  इससे  न  केवल  सामाजिक  जीवन  अपितु  पारिवारिक  जीवन  भी   अशांत    और  कलहपूर्ण  हो  जाता  है  |
  हम  चाहे  कितने  भी  आधुनिक  हो  जाएँ  लेकिन  जो  संस्कृति  हमारे  रोम - रोम  में  बसी  है  ,  हम  उससे  अलग  नहीं  हो  सकते   और  अपने  पारिवारिक  जीवन  में  मर्यादा  और   पवित्रता  देखना  चाहते  हैं  |
  आज  के  स्वच्छंद  वातावरण  में    जब  अश्लीलता ,  नशा   अपनी  चरम  सीमा  पर      है   इस  संस्कृति  की  रक्षा  कैसे  संभव  है  ?   हमें  स्वयं  जागना  होगा   क्योकि  जब  समाज  का  चारित्रिक  पतन  होता  है  तो  उसके  परिणाम  बड़े  दूरगामी  होते  हैं  --- रिश्तों  की  अहमियत  ख़त्म  हो  जाती  है ,  परिवार  बिखर  जाते  हैं    ,  महान  आत्माएं  भी  धरती  पर  आने  के  लिए  तरसती  हैं   ।  

Saturday, 7 January 2017

निराशा की वजह से जीवन अस्त - व्यस्त हो जाता है

 निराशा  का  भावना   तरक्की  के   रास्ते   बंद  कर  देती  है   ।  यदि  पारिवारिक  जीवन  में  निराशा  है   तो  सुख - शान्ति    नहीं  रहती  ,  इसी  तरह  यदि  आर्थिक  क्षेत्र  में  निराशा  ( मंदी )  हो  तो   जब  लोगों  को  कोई  काम   नहीं  मिल  पाता   इससे  समाज  में  चोरी ,  लूट,  डकैती ,  अपराध ,  व्यभिचार   जैसी   घटनाएँ  बढ़  जाती  हैं    ।
  लोगों  में  ,  विशेष  रूप  से  युवाओं  में  उर्जा  बहुत  होती  है ,  इसका  सदुपयोग  होना  बहुत  जरुरी  है   ।    यदि  यह  शक्ति  गलत  कार्यों  में  लग  गई  तो  विकास  अवरुद्ध  हो  जाता  है  ।  
  युवा  भी  अपना  आदर्श  ढूंढते  हैं    और  उसके  जैसा  बनने  का  प्रयास  करते  हैं    ।  आज  के  समय  में  जब   भ्रष्टाचार  का  बोलबाला  है  ,    लोगों  को  दण्ड  का  भय  नहीं  है  ,    तो  अपना  आदर्श   किसे  बनाये
         पर्यावरण  प्रदूषण  पर  नियंत्रण  के  साथ   मानसिक  प्रदूषण  पर  नियंत्रण  जरुरी  है   ।  

Friday, 6 January 2017

अशान्ति का कारण है ------ राह गलत होना

  सच्चाई  की  राह  पर  चलना,    तलवार   की  धार  पर  चलने  के  सामान  है    लेकिन  इसका  प्रतिफल  है  -- मन  की  शान्ति  |  इस  राह  पर  चलने  के  लिए  बहुत  धैर्य  और   ईश्वर  पर  विश्वास  चाहिए  |
     आज  के  समय  में  लोग  तुरन्त  लाभ  चाहते  हैं  ,  इस  कारण  गलत  राह  का  चयन  कर  लेते  हैं  |  धन - वैभव ,  ऐश - आराम  ,  सारे  सुख  बहुत  जल्दी  मिल  जाएँ  ,   इसी  कारण  समाज  में  अपराध ,  भ्रष्टाचार ,  चरित्र हीनता  की   समस्या   उत्पन्न  होती  है   l   पतन  की  राह  बड़ी  सरल  है ,   इस  राह  पर  अशान्ति  है   जैसे  जब   रात्रि  का  आगमन  होता  है   तो  समूचा  क्षेत्र   अंधकारमय  हो  जाता  है  ,  उसी  प्रकार   चारित्रिक  पतन  सम्पूर्ण  समाज  को  अपनी   गिरफ्त  में    ले  लेता  है   । ।   
  जब  व्यक्ति   अपनों  को ,  अपने   परिवार  के  सदस्यों  को  पतन  के  गर्त  में  गिरते  हुए  देखता  है  तब  स्थिति  असहनीय  हो  जाती  है  ,  इसी  कारण  तनाव ,  आत्महत्या ,  पारिवारिक  विघटन   आदि  अनेक  समस्याएं  उत्पन्न  होती  हैं  ।
  यह  स्वतंत्रता  व्यक्ति  को  प्रकृति  ने  दी  है  कि   वह  कोई   भी  राह    चुन    सकता  है  ,  उसके  चयन  के  अनुरूप  ही   प्रतिफल  उसे  मिलेगा  ।
    

Thursday, 5 January 2017

संसार में अशान्ति का कारण है ------- अत्याचारी का साथ देना

   इस  संसार  में  अनेक  अच्छे  लोग  हैं  ,  बहुत  पुण्य  के  कार्य  करते  हैं    लेकिन  अनजाने  में  वे  अपने  पुण्यों  को  कम  कर  देते  हैं ,  अपनी  प्राणशक्ति ,  अपने  प्रभामंडल  को  कमजोर   कर  लेते  हैं  |
  आज  के  समय  में  हम  देखते  हैं  कि  प्रत्येक  वह  व्यक्ति  जिसके  पास  कोई  ताकत है ----- धन , पद , शारीरिक  बल  ---- वह  इस  शक्ति  के  मद  में  अपने  से  कमजोर  पर  अत्याचार  करता  है   और  अनेक  लोगों  को  कोई - न - कोई  लालच  देकर  अपने  पक्ष  में  कर  लेता  है  ,  शक्तिशाली  होकर  उसके  अत्याचार   चरम  सीमा  पर  पहुँच  जाते  हैं   ।   अत्याचारी  और  अन्यायी  का  समर्थन  करने   वाले ,  उसके  विरुद्ध  आवाज  न  उठाने  वाले   का  क्या  हश्र  होता  है  ,  इसका  ज्ञान  हमें  रामचरितमानस  से  मिलता  है ------
        '  राम  - रावण  का  युद्ध  हो  रहा  था  ,  रावण  की  सेना  का  सेनापति  उसका   शक्तिशाली  पुत्र  ' मेघनाद    था  ।  वह  बहुत  वीर  था ,  उसने  एक  बार  स्वर्ग  के   राजा  इन्द्र  को  पराजित  किया  था ,  इसलिए  उसे '  इन्द्रजीत  '  भी  कहते  हैं  ।    श्रीराम   की  सेना  में  लक्ष्मण  सेनापति  थे   ।   लक्ष्मण जी  और  मेघनाद  में  भयंकर  युद्ध  हुआ   और  मेघनाद  ने  शक्तिबाण  से  लक्ष्मण  को  मूर्छित  कर  दिया  ।
  ऐसा  कहते  हैं  जब  श्री हनुमानजी  संजीवनी  बूटी  लेकर  आ  रहे  थे  तो  लक्ष्मण जी  की  पत्नी  उर्मिला  ने  उन्हें  एक  फूलों  का  हार  दिया  कि  युद्ध  में  लक्ष्मणजी  वह  हार  पहन  लें ,  पतिव्रता  नारी  का  तेज  उनकी  रक्षा  करेगा  ।
    मेघनाद  की  पत्नी   सुलोचना  भी  बहुत  पतिव्रता  थी  ,  उसने  भी  अपने  पति  मेघनाद  के  गले  में  फूलों  का  हार  पहना  दिया  ।   युद्ध  के  मैदान  में  लक्ष्मण  और  मेघनाद  में  भयंकर  युद्ध  हो  रहा  था  ,  लेकिन  शक्तिशाली   बाण   उन  फूलों  के  हार  में  छिपी  पतिव्रता  की  शक्ति  को  नमन  कर  लौट  रहे  थे   ।
   लक्ष्मण जी   का  फूलों  का  हार  वैसे  ही  तरोताजा  था   लेकिन    धीरे - धीरे  मेघनाद  के  गले   के  हार  के    फूल  मुरझाने  लगे ,  वह  कमजोर   पड़   गया   और   लक्ष्मणजी  के  बाण  से  मृत्यु  को  प्राप्त  हुआ   ।
       भगवन  श्रीराम  से  पूछा  गया  कि  मेघनाद  की  पत्नी  सुलोचना   पतिव्रता  थी  फिर  उसके  फूलों  का  हार  क्यों  मुरझाया  ?
  भगवान  ने  कहा -- '  मेघनाद  ने  ऐसे  व्यक्ति  ' रावण '  का  साथ  दिया   जो  अत्याचारी  था ,   जिसने  परस्त्री  का  अपहरण  किया ,  उस पर  कुद्रष्टि  डाली ,     इस  कारण   सती  सुलोचना  का  तेज  उसकी  रक्षा  न  कर  सका   ।   जबकि  लक्ष्मणजी  के  पास  संयम  का  बल  था   । '
  इस    द्रष्टान्त  से  हमें  यही  शिक्षा  मिलती  है  कि --- अपने  जीवन  में  यदि  सुख - शान्ति  ,   विपदाओं  से  लड़ने   और  विजयी  होने  की  ताकत  यदि  चाहिए  तो  अत्याचारी  का ,  चाहे  वह  अपना  सगा  ही  क्यों  न  हो  ,  कभी  साथ  न  दे   । 

Tuesday, 3 January 2017

संसार में अशान्ति का कारण है ---- छल - कपट

    आज  संसार  में   ऐसे  लोगों  की अधिकता  है  जो  अपना  अधिकांश  समय   दूसरों  को  बेवकूफ  बनाने ,  धोखा  देने   और  चालाकी  से   अपना  स्वार्थ  सिद्ध  करने  में  लगाते  हैं   |  परिवार  में  सम्पति  के  झगड़े ,  भाई - भाई  में  टकराव ,   विभिन्न  संस्थाओं  में   उत्पीड़न  ऐसे  लोगों  की  वजह  से  होता  है  |
  ऐसे  लोगों  से  निपटने    के    लिए   शारीरिक  शक्ति  की  नहीं  ,  बल्कि  विवेक  की  जरुरत  होती  है  |
    सन्मार्ग  पर  चलने  से  ,  निष्काम  कर्म  करने  से  मन  निर्मल  होता  है     और  इस  निर्मल  मन  में  ही  विवेक  जाग्रत  होता  है    |

Friday, 23 December 2016

अशान्ति का कारण है दूसरों को अपमानित करना

    संसार  में  अमीर - गरीब ,  ऊँच - नीच ,  कमजोर  - शक्तिसंपन्न  ,  मालिक - नौकर  के  बीच  जो  अन्तर  है ,  वह  इतना  दुःखद  नहीं  है  ।  समाज  में  अशान्ति  और  असंतोष  उत्पन्न  होने  का  बहुत  बड़ा  कारण  है  कि ---- जो  लोग  धनवान  हैं ,  शक्ति संपन्न  हैं  ,  उनमे   अहंकार  होता  है    और  इस  अहंकार  की  तृप्ति  न  होने  के  कारण  वे    लोगों  की  खिल्ली   उड़ा  कर ,  उनका  तिरस्कार  कर   अपने  को    बहुत  बड़ा   और  हर  तरह  से  योग्य  सिद्ध  करने  की  कोशिश  करते  हैं   ।
     कई  लोग  अपमान  व  तिरस्कार  सहन  कर  उसे  अपनी  ताकत  बना  लेते  हैं  और  उन्नति  के  शिखर  पर  आगे  बढ़ते  जाते  हैं   ।   निरन्तर  अपमान  व  तिरस्कार  सहने  वाले  को   यदि  कहीं  अपनापन  और  सम्मान  मिले  तो  उसका  झुकाव  उस   ओर   हो  जाता  है   ।    यदि  अपनापन  और  सम्मान  देने  वाला  चालाक  है ,   ऐसे  कार्यों  में  संलग्न  है   जिससे  समाज  में  अत्याचार  बढ़ता  है  ,  तो  वह  उनकी  कमजोरी  का  फायदा  उठाकर  उनकी  प्रतिभा  का  उपयोग  अपने  स्वार्थ  के  लिए  करने  लगते  हैं   ।  यह  स्थिति  समाज  के  लिए  घातक  होती  है   ।
   महाभारत  का   एक  पात्र  है ---- कर्ण --- ये  महादानी  था ,  बहुत  पराक्रमी  था  ,  भगवान  कृष्ण  स्वयं  उसकी  प्रशंसा  करते  थे    लेकिन  समाज  ने  पग - पग  पर    उसका  तिरस्कार  किया  ' सूत - पुत्र '  कहकर  उसकी  खिल्ली  उड़ाई  ।     दुर्योधन  ने जो   अत्याचारी  और  अन्यायी  तो  था  लेकिन   चालाक  भी  था  ,  उसने  कर्ण  को  सहारा  दिया ,   भरी  सभा  में  उसका  तिलक  कर  उसे  अंगदेश  का  राजा  बना  दिया    जिससे  कर्ण  जैसा  वीर  और  दानी  उसकी  मित्रता  का  ऋणी  हो  गया  ।
  कर्ण  को  जब  यह  ज्ञात  भी  हो  गया  कि  वह  सूर्य पुत्र  है ,  महारानी  कुन्ती  उसकी  माँ  हैं ,  तब  भी  उसने   दुर्योधन  का  साथ  नहीं  छोड़ा   और  आखिरी  सांस  तक   अर्जुन  के  विरुद्ध  युद्ध  कर  दुर्योधन  की  मित्रता  का  कर्ज  चुकाया   ।
    आज  समाज  को  जागरूक  होने  की  जरुरत  है  ,  कोई  अत्याचारी ,  अन्यायी  हमारी  कमजोरी  का  फायदा  न  उठा  ले  ।    अपने  मन  को  मजबूत  बनायें ,   और   ईश्वर   से  प्रार्थना  कर  जीवन  का  सही  मार्ग  चुने  ।