Monday, 5 December 2016

सन्मार्ग पर चलने को किसी को विवश नहीं किया जा सकता

  लोगों  को  विभिन्न  तर्कों  से  समझाया  जा  सकता  है  कि  उनका  हित  किस  में  है  ,  लेकिन   किसी  भी  अच्छी  आदत  को  अपनाने  के  लिए  उन्हें  विवश  नहीं  किया  जा  सकता  है   ।  
  जैसे  व्यक्ति  को  मालूम  है  कि  सिगरेट  और  तम्बाकू  उसके  स्वास्थ्य  के  लिए  हानिकारक  हैं    फिर  भी  वह  उन्हें  छोड़ता  नहीं  है  ।   इसे  छोड़ने  के  सिर्फ  दो  ही  तरीके  हैं  --- सिगरेट  और  तम्बाकू  का  व्यवसाय  करने  वालों  की  चेतना  इतनी  विकसित  हो  जाये  कि  वे  इस  व्यवसाय  को  ही  छोड़  दें , बाजार  में  सिगरेट  व  तम्बाकू  मिलना  ही  बंद  हो  जाये   ।
  दूसरा  तरीका  है  कि   इनका  सेवन  करने  वालों  को  समझ  आ  जाये  कि  अपने  अमूल्य  शरीर  को  नष्ट  करने  से  कोई  फायदा  नहीं ,  शरीर  के  स्वस्थ  रहने  पर  ही  संसार  के  सारे  सुख  प्राप्त  हो  सकते  हैं  ।
        नशा  कोई  भी  हो ---  जब  वह  सिर  पर  सवार  हो  जाता  है   तो  व्यक्ति  की  बुद्धि  भ्रष्ट  हो  जाती  है    और  इस  एक  बुराई  से  न  केवल  उसका  पतन  होता  है  अपितु  सम्पूर्ण  समाज  पर  उसका  दुष्प्रभाव  पड़ता  है  ---- अपनी  गलत  आदतों  को  संतुष्ट  करने  के  लिए   वह  गलत  तरीके  से  धन  कमाता  है ,  दूसरों  का  हक  छीनता  है ,  भ्रष्टाचार  में  संलग्न  होता  है ,  अनेक  व्यक्तियों  को  ऐसे   अनैतिक  कार्यों  में  जोड़कर  अपना  क्षेत्र  बढ़ाता  है   ।  दुष्प्रवृत्तियां   इतनी  बढ़  जाती  हैं   कि  सत्प्रवृतियां    उपेक्षित  हो  जाती  हैं   ।
  जैसे  नदियों  पर  बाँध  बनाना  पड़ता  है   उसी  प्रकार  मनुष्य  के  मन  को  गिराने  वाले  जो  विभिन्न  उपकरण  संसार  में  हैं  उन  पर  भी  नियंत्रण  जरुरी  है   अन्यथा  जब  बाढ़  आती  है  तो  सब  कुछ   ख़त्म  हो  जाता  है  ।
     

Sunday, 4 December 2016

परिश्रम और ईमानदारी जैसे सद्गुणों का विवेकपूर्ण उपयोग जरुरी है

   इस  संसार  में  अनेक  लोग  ऐसे  हैं  जो  बहुत  परिश्रमी  हैं  और  अपने  कार्य  में  ईमानदार  हैं    लेकिन  यदि  उनकी  दिशा  गलत  है   तो  ये  सद्गुण  व्यर्थ  हो  जाते  हैं  ,  उनसे  सुख - चैन  की  जिन्दगी ,  मन  की  शान्ति    जैसा  कुछ  नहीं  मिलता   ।   जैसे  एक  व्यक्ति   नशे  का  व्यापार  करता  है  --- वह  इस  कार्य  को  बड़ी   मेहनत  से  करता  है   ,  इस   व्यापार  में  हजारों  लोग  लगे  हैं  जो  बड़ी  मेहनत  और  ईमानदारी  से   नशे  के  कारोबार  को    अन्य   देशों  में  फैला  देते  हैं ,  बच्चों  और  युवाओं  को  नशे  की  लत   लगा  देते  हैं   ---- तो    ऐसा  कार्य  जिससे  समाज  का  पतन  हो  जाये ,  लोगों  का  जीवन   बर्बाद    हो  जाये  -- उनमे  परिश्रम  करने  से  ,  बुरे  कार्यों  में  ईमानदारी  से  जुड़े  रहने  से     सुकून  की  जिन्दगी  नहीं  मिलती   ।    देखने  में  ऐसा  लगता  है  कि  बहुत  धन  जोड़  लिया   लेकिन  वास्तव  में  ऐसा   कार्य  कर  के  व्यक्ति   स्वयं  अपने  लिए  और  अपनी  आने  वाली  पीढ़ी  के  लिए  दुःख  और  कष्ट  का  इंतजाम  करता  है   ।
     धन  के  लालच   में    लोगों  की  बुद्धि  भ्रष्ट  हो  जाती  है   ,  छोटे - छोटे    और  तात्कालिक  लाभ  के  लिए  वे  अपराधिक    कार्यों  की  श्रंखला  से  जुड़  जाते  हैं   फिर  पूजा , प्रार्थना ,  कर्मकांड  कुछ  भी  कर  लें  उन्हें  कोई  लाभ  नहीं  होता  है   ।   इसी  तरह  एक  व्यक्ति  न  तो  मांस  खाता  है   न  शराब  पीता  है    लेकिन  बड़ी   मेहनत  से   गाय , भैस  ढूंढ  कर ,  चोरी  कर  कसाई  के  पास  पहुंचाता    है    तो  यह  उसका  भयंकर  पाप  कर्म  हुआ  ।   प्रकृति  में  ऐसे  पापों  के  लिए  क्षमा  का  कोई  प्रावधान  नहीं  है   । 

Saturday, 3 December 2016

कर्मयोगी बन कर ही सुख से रहा जा सकता है

       आज  के  समय   में  जब  पाप , अपराध , भ्रष्टाचार ,  अत्याचार , अन्याय  बढ़ता  ही  जा  रहा  है  ,  ऐसी  स्थिति  में  अपने  अस्तित्व  की  रक्षा  करने  के  लिए  व्यक्ति  को  कर्मयोगी  बनना  होगा   ।  इसके  लिए  कर्तव्यपालन  में  ईमानदारी   और  नैतिकता  होनी  चाहिए   ।   बुराई  का  साम्राज्य  बहुत  बड़ा  और  संगठित  है   ,   उसका   सामना  करने  और  स्वयं  को  सुरक्षित  रखने  के  लिए  दैवी  कृपा  की  जरुरत  है  ।
           मनुष्य  बुराई  की  तरफ  बड़ी  जल्दी  आकर्षित  हो  जाता  है    लेकिन  ईश्वर  अच्छाई  की  ओर  आकर्षित  होते  हैं  । इसलिए    जो  लोग  सद्गुणी  हैं ,  सन्मार्ग  पर  चलते  हैं ,  निष्काम  कर्म  करते  हैं  उन्हें  दैवी  सहायता  प्राप्त  होती  है   जो  तमाम  मुसीबतों  से  उनकी  रक्षा  करती  है    ।
    जैसे  दुर्योधन  के  पास  भगवान  कृष्ण  की  ग्यारह  अक्षोहिणी    सेना   थी  एक से  बढ़कर  एक  वीर  राजा  उसके  पक्ष  में  थे   ,  फिर  भी  महाभारत  के  युद्ध  में   वह  बन्धु - बान्धवों  समेत  मारा  गया  ।    लेकिन   पांडव  अकेले  थे ,  वे  धर्म  और  न्याय  पर  थे  ,  उनके  साथ  भगवान  कृष्ण  स्वयं  थे  ,  वे  निहत्थे  थे  लेकिन  उनका  आशीर्वाद  पांडवों  के  साथ  था  ,  इसलिए  पांडव  विजयी  हुए   । 

Wednesday, 30 November 2016

एक बुराई अनेक बुराइयों को जन्म देती है

         एक  बुरी  आदत  से  ही  व्यक्ति  का  पतन  होने  लगता  है    ।  ' स्वार्थ '  एक  ऐसा  दुर्गुण  है  जिससे  व्यक्ति  का  नैतिक  पतन  होने  लगता  है  ।     जैसे  गेंद  है  ,  वह  सीढ़ी - दर - सीढ़ी  नीचे  गिरती  जाती  है   इसी  तरह  जब  व्यक्ति  पर  स्वार्थ  हावी  हो  जाता  है   तो  वह  अपना  हित  पूरा  करने  के  लिए  कोई
  कोर - कसर  नहीं  छोड़ता  है   ।    बुराई  बड़ी  तेजी  से  फैलती  है    ।    आज  व्यक्ति  कर्मकांड  तो  बहुत  करता  है  किन्तु   व्यक्ति  की  चेतना   सुप्त  है  ,  संवेदना  नहीं  है  इसी  कारण  आज  हर  व्यक्ति  तनाव  में  है   । 

Tuesday, 29 November 2016

मन की शान्ति के लिए ईश्वर विश्वास जरुरी है

          ईश्वर - विश्वास  रखने  से  मानसिक  संतुलन  भंग  नहीं  होता   जैसे  --- यदि  थोड़े  से  प्रयास  से  बड़ी  सफलता  मिल     जाती  है  तो  इसे    केवल  अपने   ही  प्रयासों  का  फल  मानकर  अति  प्रसन्न  न  हों ,  इसे  ईश्वर  की  देन   समझकर  मन  पर   नियंत्रण  रखें  ।
       इसी  प्रकार  कई  लोग  बहुत  प्रयास  करते   हैं   लेकिन  विफलता  सामने  आती  है   तो  बहुत  निराश  हो  जाते  हैं  ,  कई  लोग  बड़ा  धोखा  होने  पर  विक्षिप्त  से  हो  जाते  हैं    लेकिन  यदि  हमें    ईश्वर   पर  विश्वास  है   तो  इसे  प्रारब्ध  या  कर्मफल  मानकर  अपने  मन  को  समझा   लेंगे   और  फिर  उन  समस्याओं  से  निपटने  के  लिए  सकारात्मक  प्रयास  करेंगे   ।
  विषमताओं  से  भरे  इस  संसार  में  मन  का  संतुलन  अनिवार्य  है  ,  ईश्वर - विश्वास  से  हमें  शक्ति  मिलती  है   और  समस्याओं  से  निपटने  के  लिए  प्रेरणा  मिलती  है   ।
     

Monday, 28 November 2016

भेदभाव पूर्ण व्यवहार अशान्ति का बहुत बड़ा कारण है

   भेदभाव  किसी  भी  क्षेत्र  में  हो  ,  उससे  अशान्ति  उत्पन्न  होती  है  ------   जैसे --- पुत्र  और  पुत्री  में   लोग   भेद  करते  हैं ,  नारी  जाति  को  उपेक्षित  व  अपमानित  करते  हैं   उसका  परिणाम  समाज  में  विभिन्न  रूपों  में  दिखाई  देता  है  ।   इसी  तरह  अमीर - गरीब ,  और    ऊँच - नीच  के  भेद भाव  ने  संसार  में  युगों  से  अशान्ति  पैदा  की  है  ।   आज  के  इस  वैज्ञानिक  युग  ने  एक  और  तरीके  का   वर्गभेद  पैदा  कर  दिया  ।
  प्राचीन  समय  में  गुरुकुल  थे   जहाँ  कृष्ण  और  सुदामा  एक  साथ  शिक्षा  प्राप्त  करते  थे  ,  शिक्षा  के  स्तर  पर  अमीर - गरीब  में  भेद  नहीं  था   लेकिन  आज  के  इस  युग  में  यह  क्षेत्र  भी  इस  बुराई  से   बचा  नहीं  ।  एक  और  ऐसा  वर्ग  है   जो  शिक्षित  है  ,  जिसे  आधुनिक  संचार  क्रान्ति  के  सब  साधनों  का  ज्ञान  है ,  दूसरी  और  ऐसा  वर्ग  है ,  सुदूर   गाँव  में  रहने  वाला    जो  अंगूठा छाप  है   ।
  भेदभाव  चाहे  जितने  हों  लेकिन  रहते  सब  एक  ही  समाज  में  हैं ,   और  सब   परस्पर  निर्भर  हैं ---- एक  माला  के  मोती  की  तरह  ।
                        परस्पर  निर्भरता  को  समझ  न  पाने  के  कारण  या  अपने  अहंकार  के  कारण  दूसरे  वर्ग  को  उपेक्षित करने ,  अनदेखा  करने  के  कारण  ही  विभिन्न  प्रकार  के  अपराध  और  अशान्ति  उत्पन्न  होती  है   । 

Sunday, 27 November 2016

मानसिक पवित्रता जरुरी है

  आज  संसार  में   नकारात्मकता  इतनी  बढ़  गई  है  कि  हर  तरफ  हत्या ,   लूट,    डकैती , आत्महत्या  आदि  खबर   ही  सुनने  को  मिलती  हैं   ।   इसका  सम्बन्ध  किसी  विशेष  जाति   या  धर्म  से  नहीं  है   जब  किसी  समाज  में  आर्थिक  असमानता ,  गरीबी ,  शोषण  ,  उत्पीड़न , अन्याय ,  अत्याचार   जैसी  घटनायें  बढ़  जाती  हैं    तो  उनकी  प्रतिक्रिया  स्वरुप   ही   हत्या ,  लूट  आदि  घटनाएँ  बढ़  जाती  हैं   ।
  संसार    में    शान्ति  चाहिए      तो   ह्रदय  में  संवेदना  जरुरी  है    ।