Saturday, 27 August 2016

अध्यात्म पथ पर चलने का अर्थ संसार से भागना नहीं है

सुख  शान्ति  पूर्वक  जीवन  जीने  के  लिए   जीवन  में  अध्यात्म  का  प्रवेश  आवश्यक  है  |
  आध्यात्मिक  होने  का  अर्थ  संसार  से  भागना  नहीं  है  ।   जो  व्यक्ति  आध्यात्मिक  है  वह  अपने  जीवन  को  अधिक  कुशलता  के  साथ  जीता  है  ,  जीवन  के  हर  पल  का  सदुपयोग  करता  है  ।
 पूजा - पाठ ,  कर्मकांड  करने  से  आध्यात्मिक  होने  का  कोई  संबंध  नहीं  है    l  कर्मकांड  करने  वाला  व्यक्ति  अपराधी , भ्रष्टाचारी  , दुर्गुणी  हो  सकता  है    लेकिन  एक सच्चा    आध्यात्मिक    सद्गुण  संपन्न  होता  है   ।  आध्यात्मिक  होना  एक  सतत  प्रक्रिया  है  ,  निरंतर  अपने  दोषों  का  अवलोकन  कर  उन्हें  दूर  करें    और  सद्गुणों  को  ग्रहण  कर ,   सन्मार्ग  पर  चलें  । 

Friday, 26 August 2016

अशान्ति का कारण है ----- कर्तव्य की चोरी

   आज  मनुष्य  के  जीवन  का  उद्देश्य  केवल  धन  कमाना  रह  गया  है   ।  इसका  ईमानदारी  और  नैतिकता  से  कोई   संबंध  नहीं  है  ।  संसार  की  अधिकांश  समस्याओं   की  जड़  यही  है  की   कर्तव्य  पालन  में  ईमानदारी  नहीं  है  ,  दिखने  में  ऐसा  लगता  है  कि  लोग  काम  कर  रहे  हैं   किन्तु  काम  तो  कागजों  में  निपट  जाता  है ,  वास्तविकता  के  धरातल  पर   कुछ  दिखाई  नहीं  देता   ।  कर्तव्य  की  चोरी  से  व्यक्ति  प्रकृति  का  ऋणी  हो  जाता  है    जिसे  वह  बीमारी,  दुःख , तकलीफ  आदि  विभिन्न  समस्याओं   के  रूप  में  चुकता  है  ।
  सुख - शान्ति  से  जीना  मनुष्य  के  अपने  हाथ  में  है   l  सच्चाई  और  ईमानदारी  के  रास्ते   पर  चलकर   ही  
शांतिपूर्ण  जीवन  जिया  जा  सकता  है   । 

Wednesday, 24 August 2016

कष्ट और दुःख के दिनों में हताश होकर न बैठें

   सामान्यतया   यह  देखा  जाता  है  कि  लोगों  के  जीवन  में  कोई  आकस्मिक  दुर्घटना ,  विपत्ति , बीमारी  आदि  परेशानियाँ  आ  गईं  तो  वे  सब  मित्रों  से  ,  दूर - दूर  के  रिश्तेदारों  से  इसकी  चर्चा  करेंगे   ।  ऐसा  करने  से  वे  परेशानियाँ घटती  नहीं  है   बल्कि  बार - बार  उनकी   चर्चा    करने  से   वे   ताजी   बनी  रहती  हैं   l     जरुरी  ये  है  कि  ऐसे  समय  में  सकारात्मक  कार्यों  में  व्यस्त  रहें  ,  श्रेष्ठ  साहित्य  का  स्वाध्याय  करें    सबसे  बढ़कर  निष्काम   कर्म   की  गति  व   मात्रा     बढ़ा    दें  ।
    

Thursday, 18 August 2016

मन की शान्ति के लिए सकारात्मक सोच जरुरी है

   अधिकांश  व्यक्ति  थोड़ी  सी  भी   कठिनाई   आने  पर  परेशान,  निराश  हो  जाते  हैं  ,  जिसका  असर  उनके  स्वास्थ्य  पर  और  पारिवारिक  जीवन  पर  पड़ता  है  ।  हम  समस्याओं  के  प्रति  अपनी  सोच  सकारात्मक  रखें  तो  यह  समस्या  हल  हो  जायेगी    जैसे ---- शरीर  में  कोई  बीमारी  है ,  तकलीफ  है  तो  हम  बीमारी   का  दुःख  न  मनाये ,  यह  सोचें  कि  इस  बीमारी  के  बहाने  ईश्वर  हमें   अपने  स्वास्थ्य  के  प्रति  जागरूक  करना  चाहते  हैं  कि------  हम  अपनी  दिनचर्या   नियमित  करें,  श्रेष्ठ  चिंतन  करें  ,  अपने  आप  से  प्यार  करें  ,  गलत  आदतों  को  छोड़  दें  ।  ऐसी  जागरूकता  से  शरीर  स्वस्थ  रहेगा  ।
      इसी  तरह  व्यवसाय  में  हानि  हो ,  कोई  बड़ा  आर्थिक  नुकसान  हो  जाये   तो  कभी  निराश  न  हों  ।  जो  खोया  वो  न  देखें  ,  जो  बचा  है  उसके  लिए  खुश  हों    l   यह  समझे  कि  प्रकृति  हमें  सिखाना  चाहती  है  कि  हम  किफायत  से  चलें ,  मितव्ययी  बने  ,  बचत  करें   ताकि  ऐसा  संकट  आने  पर  भी  पारिवारिक  बजट   फेल  न  हो  ।   जिंदगी  की  गाड़ी   सरलता  से  चलती  रहे  । 

Wednesday, 17 August 2016

दुःख , बीमारी , परेशानी में मन को कैसे शांत रखें ----

हम  सब  इनसान  हैं  और  हम  सबके  जीवन  में  एक - न - एक  समस्या  बनी  रहती  है  ।  जब  समस्याओं  से  मुक्ति  नहीं  है  तो  उचित  यही  है  कि  हम  इन  समस्याओं  के  बीच  भी  मन  को  शांत  रखना  सीख  लें    इसके  लिए  सर्वप्रथम  शर्त  है ----- अज्ञात  शक्ति  पर ,  ईश्वर  पर  विश्वास  ।   हम  इस  बात  की  गाँठ  बाँध  लें  कि  ईश्वर  हमारा  बुरा  नहीं  चाहते  ।  ईश्वर  बोलते  नहीं  हैं  ,  वो  परिस्थितियों  के  माध्यम  से  हमें  सिखाना  चाहते  हैं  ,  हमें  मजबूत  बनाना  चाहते  हैं  ।  हमारे  भीतर  समझ  पैदा  करना  चाहते  हैं    जिससे  हम  कष्टों  में  हताश  न  हों ,  और  भी  मजबूत  बन  जायें  ।
  ईश्वर  विश्वास  ---   का  अर्थ   लोग  पूजा - पाठ ,  प्रार्थना , कर्मकांड  से  लेते  हैं   ।  प्रत्येक  मनुष्य  अपने  व्यक्तिगत  जीवन  में  अपने  तरीके  से  उपासना  करता  है   लेकिन  ईश्वर  विश्वास  का  अर्थ  है    हम  इस  सत्य  को  स्वीकार  करें  कि  ईश्वर  हर  पल  हमारे  साथ  है ,   हम  जिस  मूर्ति  की  पूजा  करते  हैं  वह  सिर्फ  मूर्ति  नहीं  है ,   ईश्वर  हमें  देख  रहे  हैं    इसलिए  हम  सतर्क  रहें ,  कोई  गलत  काम  न  करें ,  झूठ  न  बोलें,  कामचोरी  न  करें ,  किसी  को  सताएं  नहीं   और  सत्कर्म  करें  ,  खुशियाँ  बांटने  का  प्रयास  करें  ।
 ऐसा  ही  सच्चा  विश्वास  रखने    से   और  धैर्य  रखने  से  मन  शांत  रहता  है    । 

Friday, 12 August 2016

सुख - शान्ति से जीने का सरलतम मार्ग

 सुख  शान्ति  से  जीने  के  लिए  मनुष्य  धन - सम्पदा ,  वैभव - विलास  के  साधन  जोड़ता  है  ,  यह  सब  भी  बहुत  जरुरी  है   लेकिन  मन  शांत  रहे   इसके  लिए  दो  बातें  अनिवार्य  हैं    ------ 1. अद्रश्य  शक्ति  पर  विश्वास  2.  निष्काम  कर्म    |  एक  व्यक्ति यदि   इस    दो   बातो   को  जीवन  में  अपना  ले    तो   जीवन  सरल  हो  जायेगा   |  ईश्वर  कहाँ  है ?  कैसा  है  ,  ----- इन  सब  तर्कों  में  न  उलझे  |  ईश्वर  विश्वास  का  अर्थ है  जीवन     के  प्रत्येक  क्षेत्र  में  कर्तव्य  पालन    और  सत्कर्म  का  कोई  भी  मौका  हाथ  से  जाने  न  पाए    |  इतना  भर  करते  रहने  से   जीवन  की  अपने  आप  सरल  हो  जाएगी    |

Saturday, 30 July 2016

सांसारिक जीवन के साथ अध्यात्म का समन्वय बहुत जरुरी

सुख  शान्ति  से  जीवन  जीने  के  लिए  जरुरी  है  की  हम  सांसारिक  जीवन  जीते  हुए  उसमे  अध्यात्म  का  समावेश   करें  ।   अध्यात्म  का  अर्थ  कर्मकांड  नहीं  है  । अध्यात्म  तो  जीवन  जीने  का  ऐसा  तरीका  है  जिससे  हम  ईश्वर  को ,  प्रकृति  को  प्रसन्न  कर  लें  ,  इससे  हमारे  जीवन  की  सारी  समस्याएं  स्वत:  ही  हल  हो  जायेंगी  ।  -    सांसारिक  जीवन   जीने  के  साथ  हम  आध्यात्मिक  हों   इसके  लिए    जरुरी   है
कि  जो  व्यक्ति  जहाँ ,  जिस  क्षेत्र  में  है  ईमानदारी  से  कर्तव्य पालन  करे   |  नि:स्वार्थ  भाव  से  सत्कर्म  करे   |  इस  छोटी  सी  शुरुआत  से  ही  आध्यात्मिक  क्षेत्र  में  प्रगति  संभव  है   |  आज  के  व्यस्त  और  आप -धापी  के  जीवन  में   चलते - फिरते ,  काम  करते  हुए  ही  ईश्वर  को   याद    कर  ले  ।  ईश्वर  को  हर  पल   अपने  साथ  उपस्थित  मानने  से   गलत  कार्यों  से  अरुचि  होगी   और  आत्म  विश्वास  बढ़ेगा  ।