Tuesday, 27 September 2016

अशान्ति के कारणों को दूर करना होगा

 अपने  मन  को   नियंत्रित  करना  बड़ा  कठिन  कार्य  है .   उस  पर  से  समाज  में  ऐसी  चीजें  उपलब्ध  होना  जो  मन  को  और  विचलित  करती  हैं ,    ऐसी  स्थिति  सम्पूर्ण  समाज  के  लिए  घातक  है  ।  अश्लील  फ़िल्में  देखने  से  व्यक्ति  का  मन   वैसे  ही   विचलित  रहता  है  ,  फिर  भारत    एक    गर्म  जलवायु  का  देश  है  इसलिए  शराब ,  तम्बाकू  आदि  नशीले  पदार्थों    के  सेवन  से   मन  पर  नियंत्रण  खत्म  हो  जाता  है    और  व्यक्ति  पशु  से  भी  बदतर  हो  जाता  है   ।  महिलाओं  के  प्रति  हिंसक  व्यवहार ,  चरित्र  हनन  --- इन  सबके  पीछे  प्रमुख  कारण  नशे  की  अधिकता  है  ।
   यदि  हमें  अपनी  संस्कृति  को  जीवित  रखना  है  ,  पारिवारिक  जीवन  सुखमय  बनाना  है ,  समाज  में  शांति  रखनी  है    तो  नशे  से  दूर  रहना  होगा   ।
   नशा  करने  वाले  की  बुद्धि  भ्रष्ट  हो  जाती  है  ,  वह  अपने  शरीर  को  गलाकर ,  परिवार  को  दुःखी  करके   नशा  बेचने  वाले  को  अमीर  बना  देता  है   । 

Sunday, 25 September 2016

अशांति मनुष्य ने स्वयं मोल ली है

    समाज  में  होने  वाले  अपराध ,  शोषण ,  अनैतिक  कार्य , उत्पीड़न,  अत्याचार  आदि  के  कारण  ही  अशांति  रहती  है  ।   पहले  जो  अपराधी  होते  थे  , उन्हें  लोग  समाज  से  बहिष्कृत  कर  देते  थे  ,  उनसे  दूर  रहते  थे  ।  उसके  प्रायश्चित  करने  पर ,  सुधर  जाने  पर  उसे  पुन:  समाज  में  लिया  जाता  था ,  इसलिए  लोग  अपराध  करने  से  डरते  थे  ।
  लेकिन  आज  के  समय  में  अपराधी  समाज  में  ही  घुल - मिलकर  रहते  हैं   ।
  एक    व्यक्ति   भी   जब  कोई  मर्यादा  का  उल्लंघन  करता  है ,  अनैतिक  कार्य , अपराध  करता  है  ,  किसी  भी  कारण  से  वह   दण्डित  होने  से  बच    जाता  है ,  और  समाज  उसे  स्वीकार  कर  लेता  है    तो  उससे   अन्य   लोगों  को  भी  शह  मिलती  है  ।  फिर  अपराध  का  सिलसिला  शुरू  हो  जाता  है  ।
    अपराध  चाहे  छोटा  हो  या  बड़ा    व्यक्ति  को  कष्ट  देता  है   ।
आज  के  समय  में  पहचानना  मुश्किल  है  कि  वास्तविक  अपराधी  कौन  है  ?  अपराध  करता  हुआ  कोई  दीखता  है   लेकिन  उसके  पीछे  वास्तविक  अपराधी  कौन  है   ,  यह  जानना  मुश्किल  है  ।
  जब  लोग   प्रकृति  के  दंड विधान  से  डरेंगे  ,  आँखे  खोलकर  अपने  जीवन  में  देखेंगे  कि  गलत  कार्य  करने  से   कितनी  सुख - शान्ति  मिल  गई  ?     यह  सत्य  समझना  जरुरी  है   । 

Saturday, 24 September 2016

अशान्ति का कारण है ---- लोग ईश्वर से ज्यादा ' व्यक्ति ' पर विश्वास करने लगे हैं

ईश्वर  विश्वास  का  अर्थ  है ---- सन्मार्ग  पर  चलना , दुर्गुणों  को  त्याग  कर  सद्गुणों  को  अपनाना , सत्कर्म  करना  ,  कभी  किसी  का  अहित  नहीं  करना ---  निष्काम  कर्म  करना    जिससे  ईश्वर  प्रसन्न  हों  और  हमें  उनकी  कृपा  मिले   ।
  आज  के  समय  में  लोगों  को  यह  सब  कार्य   बहुत  कठिन  लगता  है    इसलिए  लोग   केवल  कर्मकांड  कर  के  स्वयं  को  आस्तिक  बताते  हैं   और  समाज  में  अपने  छोटे - बड़े ,  उचित - अनुचित   कार्यों  के  लिए  ,  अपना  रुतबा  बनाये   रखने  के  लिए   शक्तिसंपन्न  लोगों  का  ,  ' गुंडों ' का  सहारा  लेते  हैं  ।   इसी  लिए  जब  ये  ' गुंडे '  अनैतिक  कार्य  करते  हैं ,  लोगों  पर  अत्याचार  करते  हैं   तब  सब  आँखों  पर  पट्टी  बाँध  कर  चुप  रहते  हैं   l   आज  स्वार्थ  ने  व्यक्ति  को  अन्धा  बना  दिया   है,  लोग  केवल  अपना  हित  देखते  हैं   ।    इसी  वजह  से  सारे  संसार  में  अशान्ति  है    l                                                                                                                                                                                                                                                     

Thursday, 22 September 2016

नैतिक मूल्यों की स्थापना से ही शान्ति संभव है

कोई  भी  समाज  अपनी  संस्कृति  के  अनुरूप  आचरण  कर  के  ही  सुखी  हो  सकता  है   ।  भारतीय  संस्कृति  में  मर्यादा ,  नैतिकता  और  श्रेष्ठ  चरित्र  को  प्रधानता  दी  गई  है   लेकिन  धन  का  लालच ,  असीमित  कामनाएं , फिल्मों  की  अश्लीलता  आदि   के   कारण   आज  मनुष्य   मर्यादा  और  नैतिकता  को  भूल  गया  है  ,  लेकिन   मन  की  गहराइयों  में  वह  श्रेष्ठ  चरित्र  को  ही  पसंद  करते  हैं    इसलिए  समाज  में  ऐसे  लोग  मुखौटा  लगाकर  रहते  हैं  ताकि  उनकी  असलियत   किसी  को  मालूम  न  हो  ।
   परिवार  में  कलह  का  यही  बड़ा  कारण  है   ।

Wednesday, 21 September 2016

संसार में शान्ति के लिए कला एवं साहित्य की श्रेष्ठता अनिवार्य है

मनुष्य  के  मन  पर  सबसे  ज्यादा  असर  फिल्मों  का  पड़ता  है  l  जब  वह  अपने  पसंदीदा  कलाकार  को   किसी  विशेष  अभिनय  में  देखता  है   तो  उसके  मन  में   वह  द्रश्य  अंकित  हो  जाते हैं   और  धीरे  -  वह  विचार  कार्य  रूप  में  दिखाई  देने  लगते  हैं   ।   आज  से  लगभग    15- 20  वर्ष  पहले  जो  फिल्म  बनाई  जाती   थीं  ,  वे   हिट  हों   इसके  लिए  उनमे  हत्या , अपहरण  और  बलात्कार  के  द्रश्य  ठूंसे  जाते  थे  ।   आज  उन्ही  द्रश्यों  का   व्यवहारिक  रूप  समाज  में   देखने  को  मिलता  है  ,  लोगों  की  मानसिकता  प्रदूषित  हो  चुकी  है   ।  आज  की  सबसे  बड़ी    जरुरत  यह  है  कि   इस  प्रदूषण  को  रोका  जाये   ।
 श्रेष्ठ  फिल्मो  और  श्रेष्ठ  साहित्य  से  ही  इस  प्रदूषण  को  दूर  किया  जा  सकता  है  ।                               
                                                                        

Friday, 16 September 2016

ईश्वर की भक्ति या पूजा कोई सौदा नहीं है

 अधिकांश  लोगों  का  यह  कहना  होता  है  कि  हमने  इतनी  ईश्वर  की  पूजा  की  , भजन - पूजन , मूर्ति  स्थापना  सब  कुछ  किया  लेकिन  फिर  भी  जीवन  में  कष्ट  व  दुःख  आया  ,  कोई  फायदा  नहीं  हुआ  ।
     यह  बात  हमें  अच्छे  से  समझ  लेनी  चाहिए   कि  पूजा  - भक्ति  कोई  सौदा  नहीं  है  कि  हमने  की  और  हमारे  कष्ट  दूर  हो  गये  या  भविष्य  के  लिए  गारंटी  हो  गई  कि  अब  दुःख  नहीं  आएगा  ।
   सुख  और  दुःख  तो  हमारे  अपने  ही  कर्मों  का  प्रतिफल  है  जो  हमने  जाने - अनजाने  में  इस  जन्म  में  किये  या  पिछले  जन्म  में  ।
  पूजा-  भक्ति  करना  व्यक्ति  की  अपनी  इच्छा  है ,  संसार  की  भाग - दौड़  से  मन  हटाकर  ईश्वर  में  मन  लगाना  अच्छा  है  ,  लेकिन  यह  सोचना  कि  ऐसा  करने  से  वो  हमारे  प्रारब्ध  को  बदल  देंगे  ,  असंभव  है    एक  बार  कोई  व्यक्ति  पूजा - पाठ  न  भी  करे ,  लेकिन  वह  सत्कर्म  करता  है ,  किसी  को  दुःख  नहीं  पहुँचाता  है ,  नि:स्वार्थ  भाव  से  सेवा  , परोपकार  के  कार्य  करता  है   तो  दुआओं  में  इतनी  शक्ति  होती  है  कि  कठोर  प्रारब्ध  बहुत  हल्का  हो  जाता  है  ,  जैसे  भयानक  एक्सीडेंट  होना  हो  तो  उसकी  बजाय  थोड़ी  सी  खरोंच  आ  जाती  है  ।
  प्रारब्ध  को  काटने  की  शक्ति  तो  गायत्री  मन्त्र  में  है  ,  इसकी  सफलता  के  लिए  जरुरी  है  कि  निष्काम  कर्म  करें ,  अपना  कर्तव्य  पालन  करें ,  पूजा  के  बहाने  कर्तव्य  से  जी  न  चुराएँ  ।  और  अपने  दोषों  को  दूर  करने  का  प्रयत्न  करते  हुए  सन्मार्ग  पर  चलें    ।  

Thursday, 15 September 2016

सत्कर्म की पूंजी संचित करें

आज  के  इस  युग  में  धन  को  बहुत  अधिक  महत्व  दिया  गया  है  इसी  लिए  व्यक्ति  भ्रष्ट  तरीके  से  धन  कमाने  लगा   l   यही  महत्वपूर्ण  वजह  से   संसार  में  इतना  पाप  बढ़   गया  है    |  सत्कर्म   करने  से    नकारात्मकता  दूर  होती  है  ,   एक  दिव्य  एहसास  होता  है  कि   कोई  दिव्य  शक्ति  हमारी   मदद  कर  रही  है  ,  यह  अनुभव  मन  को  एक  अनोखे  आनन्द  से  भर  देता  है  l