Thursday, 16 February 2017

दिखावे की प्रवृति से व्यक्ति स्वयं ही परेशान रहता

   आज  के  समय  में  अधिकांश  व्यक्ति  अपने  चेहरे  पर  एक  मुखौटा  लगाकर  रहते  हैं  |  समाज  के  सामने  उनका  एक  रूप  होता  है ,  जिसमे  लोग  उन्हें  बहुत  सभ्य,  उदार  ह्रदय  और  मिलनसार  कहते  हैं ।  लेकिन  यह  उनका  वास्तविक  रूप  नहीं  होता   ।  इस  मुखौटे  के  पीछे   वे  भ्रष्टाचारी ,  एक  शातिर  अपराधी  होते  हैं   ।   अपनी  असलियत  छुपाये  रखने  के  लिए  ही  उनका  सारा  प्रयास    होता  है   ।   ऐसे  लोग  स्वयं  अशांत  रहते  हैं  और  समाज  में  अशान्ति  उत्पन्न  करते  हैं  ।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                      

Tuesday, 14 February 2017

समस्याओं का हल अपनी सोच बदलने से होगा

  प्रत्येक  व्यक्ति  के  जीवन  में  मानसिक  परेशानी  और  तनाव  के  कई  कारण  हैं  इनमे  एक  बड़ा  कारण  है   कि   व्यक्ति  परिवार  में,  समाज  में  सबसे  उम्मीद  बहुत  रखता  है   ।  जब  ये  उम्मीदें  पूरी  नहीं  होतीं  तब  इसी  वजह  से  परिवारों  में  कलह  होता  है ,  समाज  में ,  संस्थाओं  में  झगड़े  होते  हैं  जिनसे  तनाव  उत्पन्न  होता  है   ।   कई  बार  व्यक्ति  स्वयं  जानता  है  कि  उसने  जो  उम्मीदें  पाल  रखीं  हैं  उनका  पूरा  होना  संभव  नहीं  ,  लेकिन  मन  से  विवश  हैं  इसलिए   उम्मीद  करते  हैं  और  इसी  कारण  तनाव  झेलते  हैं   l       सुख  शान्ति  से  जीना  है  तो  उम्मीद  रखना  ,    इस  सोच  को  छोड़ना  पड़ेगा  ।   क्योंकि  प्रत्येक  व्यक्ति  की  अपनी  समस्याएं  हैं ,  अपनी  मज़बूरी   और  परिस्थितियां  हैं   कोई  किसी  की  उम्मीदों  पर  खरा  नहीं  उतर  सकता  ।
  हम  सिर्फ  अपने  बारे  में  ही  न  सोचें  ।   जो  कुछ  हमें  मिला  है  उसकी  खुशी  मनाएं   ,  जो  नहीं  है  उसका  दुःख  मनाना  छोड़  दें   । 

Sunday, 12 February 2017

अपनी तरक्की का प्रयास न कर के , लोग दूसरों को गिराने का प्रयास करते हैं

   आज  के  समय  में  लोगों  के  लिए  तरक्की  का  अर्थ  --- केवल  अधिकाधिक  धन  कमाना  है  l  उनके  जीवन  में ,  परिवार  में  सुख - शान्ति  हो  सुकून  हो  ,  ऐसी  सोच  लोगों  के  मन  में  ही  नहीं  है  ।  
  वास्तव  में  लोग  अपनी  उन्नति  का  प्रयास  करते  ही  नहीं  l  चाहे  पारिवारिक  जीवन  हो ,  सामाजिक  अथवा  राजनैतिक  जीवन  हो    लोग  अपनी  उन्नति  से  ज्यादा  प्रयास  दूसरे  को  गिराने  का  करते  हैं  l
          इस  तरह  की  सोच  के  लोग  अपनी  प्रभुता  कायम  करने  के  लिए    दूसरों  में  कमियां  निकल  कर  ,  उन्हें  हर  तरीके  से  नीचा  दिखाकर  ,  उन्हें  आत्महीनता  की  स्थिति  में  धकेलने  का  प्रयास  करते  हैं   ।
  इसलिए  आज  के  युग  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है ----- आत्मविश्वास  l   अपनी  योग्यता  को ,  अपने  महत्व  को  पहचानों  l   ईश्वर  पर  विश्वास  रखो  ।   ईश्वर विश्वास  ही  आत्मविश्वास  की  कुंजी  है  । 

Wednesday, 8 February 2017

WISDOM

दुःख , कष्टों  का  तत्काल  संकट  निवारण   करने  के  लिए   कुछ  साधनों  की ,  सहायता  की ,---- आवश्यकता    पड़ती  है  , पर  किसी  का  स्थायी  दुःख  मिटाना  हो   तो  उसे  अपने  पैरों  पर  खड़ा  कर  स्वावलंबी  बनाना  होगा   l                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                     

संसार में अशान्ति का कारण है --- लोग ज्ञान का , शक्ति का दुरूपयोग करते हैं

आज  के  समय  में  अधिकांश  लोग  अपने  ज्ञान  का ,  शक्ति  का  उपयोग  लोक  कल्याण  के  लिए  ,  समाज  को  ऊँचा  उठाने  के  लिए  नहीं  करते   ।  अपितु  उसका  उपयोग  अपने   अहंकार  की  तुष्टि  के  लिए ,  अपने  से  कमजोर  का  शोषण  करने  के  लिए  और  दूसरों  को  नीचा  दिखाने  के  लिए  करते  हैं   ।      ' महाभारत '  के  समय  में  ' पाशुपत अस्त्र '  ' नारायण  अस्त्र  '  आदि  अनेक  ऐसे  शक्तिशाली  अस्त्र -शस्त्र  थे ,  निर्दोष ,  निरपराध  व्यक्ति   पर  उसका  प्रयोग  करने  पर   वह  चलाने  वाले  का  ही  विनाश   कर  देते  थे  कोई  भी  शक्तिशाली  अपनी  उपलब्धियों  का  दुरूपयोग  नहीं  कर  सकता   था  ।
  लेकिन    आज  ऐसा  नहीं  है    इसी  लिए  अशान्ति  है ,  आपदाएं  हैं  । 
  

Wednesday, 1 February 2017

संसार में सुख - शान्ति के लिए नैतिक शिक्षा की जरुरत है

  आज  संसार  में  इतनी  अशान्ति  का  कारण  है  कि  लोगों  के  ह्रदय  में  संवेदना  का  स्रोत  सूख  गया  है  लोग  परोपकार  करने  के  बजाय  एक - दूसरे  को  परेशान  करते  हैं  ।  यदि  गहराई  से  देखें  तो   इसका  कारण  है  कि  आज  सद्गुण  सिखाने  वाली  नैतिक  शिक्षा  का  अभाव  है   ।  लोगों  में  प्रतिभा  तो  बहुत  है ,  ऊँची - ऊँची  डिग्री  है , ज्ञान  का  भंडार  है  लेकिन  सद्गुणों  के  अभाव  में   व्यक्ति  अपनी  प्रतिभा  का  दुरूपयोग  करने  लगता  है  ।
   वैज्ञानिकों  में  कितनी  प्रतिभा  है ,  कितना  ज्ञान  है  लेकिन  संवेदना  न  होने  के  कारण  वे  अपनी  प्रतिभा  का  उपयोग  भयंकर  बम  बनाने , मारक  अस्त्र ,  तोपें  आदि  बनाने  में  करते  हैं   जिससे  यह  सुन्दर  संसार  खंडहर  हो  जाये  ,  कुछ  लोग  ही  जैसे  तैसे  बच   पायें  जो  लाशों  पर  राज  करें  ।  वे  ऐसा  कोई  आविष्कार  नहीं  करते  कि  मनुष्य  में  सद्बुद्धि  जाग्रत  हो  जाये  ,  वो  मिलजुल  कर  रहे  युद्ध  की  जरुरत  ही  न  हो  ।
      हमारे  महाकाव्य  हमें  शिक्षा  देते  हैं  ---'- महाभारत '  के  अध्ययन  से  ज्ञात  होता  है  कि  पांडवों  ने  अस्त्र - शस्त्र  की  शिक्षा  तो  गुरु  द्रोणाचार्य  से  ली ,  लेकिन  उन्हें   पग - पग  पर  नैतिक  शिक्षा  उनकी  महान  तपस्वी  माता  कुंती  ने  दी  ।  इसलिए  इतने  कष्ट  सहने  के  बावजूद  भी  वे  अपने  पथ  से  विचलित  नहीं  हुए  ,  सन्मार्ग  पर  चले  और  अन्याय  के  विरुद्ध  युद्ध  में  विजयी  हुए  ।
       दूसरी  ओर  कौरव  थे  ।  अस्त्र - शस्त्र  की  शिक्षा  तो  उन्हें  भी  गुरु द्रोणाचार्य   से  मिली   लेकिन  उन्हें  नैतिक  शिक्षा  नहीं  मिली  ।  दुर्योधन  के  पिता  धृतराष्ट्र  अंधे  थे ,  वो  पुत्र मोह  में  भी  अंधे  थे  ।   दुर्योधन  की  गलतियों  पर  उसे  रोकते  नहीं  थे  ,  इससे  वह  बहुत  अहंकारी  और  अत्याचारी  हो  गया  था  ।  दुर्योधन  की  माता  गांधारी  ने  अपनी  आँखों  पर  पट्टी  बांध  ली  थी  ,  वे  भी  उसे  पांडवों  के  विरुद्ध  षड्यंत्र  करने ,  अन्याय , अत्याचार  करने  से  न  रोक  सकीं   ।   इसी  का  परिणाम  हुआ  कि  युद्ध  में  दुर्योधन  बन्धु- बान्धव  समेत  मारा  गया    ।   धर्म  और  सत्य  के  मार्ग  पर  चलने  वाले  पांडव  विजयी  हुए   ।   

Tuesday, 31 January 2017

लोगों की मानसिकता को परिष्कृत करना - आज की सबसे बड़ी जरुरत है

 समाज  में  आतंक ,  चोरी , लूट , हत्या , अपहरण , नशा ,  जुआ  आदि  दुष्प्रवृत्तियों  का  कारण  है ---- लोगों  की  मानसिकता  का  प्रदूषित  होना   ।  इस  प्रदूषण  का  सबसे  बड़ा  कारण  है --- नशा   ।   अश्लील  फिल्म ,  दूषित  साहित्य    तो  सारे  समाज  की  मानसिकता  को  प्रदूषित  कर  देता  है  ।   कहते  हैं   इन  सबसे  प्रकृति  भी   कुपित  हो  जाती  है  और  बाढ़ , सूखा,  भूकंप ,  महामारी  आदि  प्राकृतिक  प्रकोप  बढ़  जाते  हैं ।              यदि  सुख - शान्ति  से  जीना  है ,  स्वस्थ  रहना  है    तो  ----- साम -दाम , दंड - भेद  --- किसी  भी  तरीके  से    लोगों  की  मानसिकता  को  प्रदूषित  करने  वाले  कारणों  को  समाप्त  करना  होगा  ।    सुख  शान्ति  के  महल  के  लिए  परिष्कृत  विचारों  की   मजबूत  नींव  जरुरी  है   ।