Friday, 5 May 2017

मन की शान्ति के लिए प्रार्थना जरुरी है

आज  की  आपा - धापी  की  जिन्दगी  में  प्रत्येक  व्यक्ति  परेशान    है  l    जीवन  में  अनेक  समस्याएं  हैं  इस  कारण  लोग  तनाव  में  जी  रहे  हैं  |   व्यक्ति  अपने  लालच , स्वार्थ  और  अहंकार वश  दूसरों  को  परेशान  करता  है  ,  लेकिन  सबसे  बड़ी  परेशानी  मनुष्य  का  अपना  स्वयं  का  मन  है  l  अपने  ही  क्रोध , कामना ,  वासना  से  व्यक्ति  परेशान  रहता  है   और  इसी  की  वजह  से  अनेक  सांसारिक  समस्याएं  उत्पन्न  होती  हैं  l  इन  सब  से  मुक्ति  के  लिए  जरुरी  है   कि  हम  कुछ  समय  सब  बातों  को  भूलकर  ईश्वर  से  प्रार्थना  करें  l
   हम  नहीं  जानते  कि  हमारे  लिए  क्या  अच्छा  है  क्या  बुरा ,  इसलिए  हमेशा  सद्बुद्धि  के  लिए   ईश्वर  से  प्रार्थना  करें  l   केवल  एक  सद्बुद्धि  होने  से  जीवन  की  सारी  समस्याएं  आसानी  से  हल  हो  जाती  हैं   l
    शरीर   में  कोई  बीमारी  है   तो  उसका  इलाज  अवश्य  कराएँ ,  लेकिन  प्रार्थना  में  इस  सत्य  को  अवश्य  स्वीकारें  कि   अपने  ही  इस  जन्म  या  पिछले  किसी  जन्म  के  पापों  के  फलस्वरूप  यह  बीमारी  है    और  फिर  सच्चे  मन  से  अपनी  जाने - अनजाने  भूलों  के    लिए  पश्चाताप    और  भविष्य   में  सन्मार्ग  पर  चलने  की  शक्ति  देने  के  लिए  प्रार्थना  करें  l   हमें  यह  याद  रखना  चाहिए  कि  निष्काम  कर्म  भी  हम  ईश्वर  की  कृपा  से  ही  कर  पाते  हैं   l      जब  हम  अपने  जीवन  में  निष्काम  कर्म  करते  हैं  और  सच्चे  दिल  से  प्रार्थना  करते  हैं  ,  तो  वे  प्रार्थनाएं  अवश्य  सुनी  जाती  हैं  l  हमें  सन्मार्ग  पर  चलते  हुए  धैर्य  और  विश्वास  रखना   चाहिए   और  उस  आत्मिक  आनन्द  का  इन्तजार  करना  चाहिए  कि  उस  अज्ञात  शक्ति   की  नजरों  से  हम  दूर  नहीं  ,  उसने    हमारी  प्रार्थना  सुन  ली   l 

Monday, 1 May 2017

सुख - शांति से जीना है तो अपना मुखौटा उतारना होगा

  सच्चाई  और  ईमानदारी  में  गजब  का  आकर्षण  होता  है  ,  इसलिए  समाज  में  अनेक  लोग  जो   अनैतिक  और  अपराधिक  गतिविधियों  में  संलग्न  होते  हैं   अपने  ऊपर   शराफत  का  मुखौटा  लगाकर  रहते  हैं  l   वे  समाज  में  अपनी  पहचान  ऐसे  रूप  में  दिखाना  चाहते  हैं  कि  उनके  बराबर  कोई  सच्चा , ईमानदार  और  सह्रदय  कोई  है  ही  नहीं  |   ऐसे  लोग  स्वयं  परेशान  रहते  हैं  ,  उनका  सारा  जीवन  इसी  उधेड़बुन  में  चला  जाता  है  कि  इस  झूठी  पहचान  को  कैसे  बनाये  रखा  जाये  ,  इस  कारण  वे  तनावग्रस्त  रहते  हैं  l   ऐसे  लोगों  की  असलियत  जानने  वाले  भी  बहुत  होते  हैं    जो  अपना  मुंह  बंद  रखने  के  लिए   ऐसे  लोगों  से  बहुत  धन  कमा  लेते  हैं  l
  शान्ति  से  जीने  के  लिए  जरुरी  है  कि  हम  सद्गुणों  को  अपनाएं ,  सच्चाई  की  राह  पर  चलें   ताकि  हमें  ऐसे  किसी  मुखौटे  की  जरुरत  ही  न  पड़े  l 

Saturday, 29 April 2017

अनैतिक तरीके से धन कमाना ---- अशान्ति का सबसे बड़ा कारण है

जब  व्यक्ति  बेईमानी  से   और  अवैध  धन्धों  से  जो  समाज  के  लिए  घातक  हैं ---- धन  कमाता  है   तो  इसका  प्रभाव  समाज  पर  कैंसर  की  तरह  होता  है   क्योंकि  यह  काम  कोई  अकेला  नहीं  करता   इसकी  पूरी  श्रंखला  होती  है  जो  धीरे - धीरे  सम्पूर्ण  समाज  को  अपने  गिरफ्त  में  लेती  है   |  जिस  तरह  कैंसर  पूरे   शरीर   में  फैलता  जाता  है   उसी  तरह   यह  भ्रष्टाचार ,  अनैतिक  धन्धे  पूरे  समाज  को  खोखला  कर  देते  हैं   l        इस  समस्या  से  निपटने  के  लिए    यदि  दो - चार  लोगों  को  सजा  भी  दे  दी  जाये  तो  यह  समस्या  हल  नहीं  होगी   |    क्योंकि  इन  अवैध  धन्धे  और  बेईमानी  के  कार्य  से  भी  हजारों  लोगों  को  रोजगार  मिला  हुआ  है  ,  ऐसे  ही  लोगों  की  दम  पर  उनका  व  उनके  परिवार  का  पेट  पलता  है  ,  इसलिए   इस  श्रंखला  को    तोड़ना   बहुत  कठिन  है   l
लेकिन  समाज  में  शान्ति   के  लिए  ईमानदारी , सच्चाई   और  नैतिकता  जरुरी  है    l   किसी  भी  समस्या  से  निपटने  के  लिए  विवेक  की  जरुरत  होती  है  l  सर्वप्रथम  नि:स्वार्थ  सेवा  और  परोपकार  कर  आत्म - बल   बढ़ाना  जरुरी  है   l   जब  ऐसे  आत्मशक्ति  संपन्न   और  सच्चाई  व  ईमानदारी  की  राह  पर  चलने  वाले  लोग  ज्यादा  होंगे   तो  बेईमानी  व  अनैतिकता  को  पनपने  का  मौका  ही  नहीं  मिलेगा  ,  ऐसे  लोग  या  तो  नष्ट  होंगे   या  स्वयं  को  बदलकर  सच्चाई  की  राह  पर  चलेंगे   |     

Tuesday, 25 April 2017

अशान्ति का कारण है ---- धन और पद से समर्थ लोगों का अहंकार

  अहंकार   से  ग्रस्त  लोग  किसी  एक  देश या  धरती  से  बंधे  नहीं  है  वरन  सारे  संसार  में  इस  दुर्गुण  से  ग्रस्त  व्यक्ति  हैं  इसीलिए  सारे  संसार  में  लूटपाट , हत्या   आदि  अपराधिक  घटनाएँ  बढ़  रही  हैं  l   यदि  लोगों  की  रोटी , कपड़ा, मकान  जैसी  अनिवार्य  जरुरत सम्मान  के  साथ  पूरी  हो  जाएँ  और  रोजगार  से  उसकी  ऊर्जा  का  सदुपयोग  हो  जाये  तो  एक  सामान्य  व्यक्ति  अपराधिक  गतिविधियों  में  संलग्न  नहीं  होता  l    लेकिन  जब   धन , पद और  जातिगत  अहंकार  से  ग्रस्त  व्यक्ति  गरीबों  का  शोषण  करते  हैं ,  उनका  खून  चूसकर  अपनी  सात  पीढ़ियों  के  लिए  संपत्ति  जोड़ते  हैं  और  पग - पग पर  उन्हें  तिरस्कृत  करते  हैं  ,  तब  धीरे - धीरे  यही  शोषित  वर्ग     संगठित  होकर  या  किसी  भी  तरीके  से   समाज  से  बदला  लेता  है  |   शोषण  और  तिरस्कार  की  प्रतिक्रिया स्वरुप  ऐसे  अँगुलियों  पर  गिने  जाने  वाले  बहुत  कम  लोग  होते  हैं  जो  संघर्ष  कर  महानता  के  स्तर  पर  पहुँच  जाएँ   l   गरीबी  और    अपमान   की  आग  में  झुलसते  व्यक्ति  में  बदले  की  भावना  आ  जाती  है  l  यह  स्थिति  सम्पूर्ण  समाज  के  लिए  खतरा  है   l
   इस  धरती  पर  जीने  का  हक  सबको  है  ,  मनुष्य , जीव जंतु , पेड़ पौधे  निर्जीव , सजीव  सबको  धरती  पर रहने  का  हक  है  |  ' जियो  और  जीने  दो '  से  ही  शान्ति  होगी  l  

Monday, 24 April 2017

लोग केवल अपने बारे में सोचते हैं

  संसार  में  अशांति  का  एक  बहुत  बड़ा  कारण    है    कि  लोग  केवल   अपने  बारे  में  सोचते,   हैं  |  l   अब  लोगों  पर  स्वार्थ  हावी  हो  गया    है ,  जिससे  उन्हें  कोई  फायदा  हो  उसी     से  वे  मिलेंगे   |  मित्रता  भी     नि:स्वार्थ  भाव  से  नहीं  है  ,  इसलिए  आज  का  व्यक्ति  भीड़  में    भी  अकेला  है   l   इसलिए  आज  के  समय  में  ईश्वर  विश्वास  बहुत  जरुरी  है   l     इसी  विश्वास  के  सहारे  हम  कर्मयोगी  बनकर     अपने  जीवन  की  कठिनाईयों  का  सफलता  पूर्वक  सामना  कर  सकते  हैं   l 

Friday, 21 April 2017

शक्ति के सदुपयोग से ही शान्ति संभव है

      यदि  कोई  व्यक्ति  सद्गुण  संपन्न  है ,  उसमे  दया , करुणा,  संवेदना , सत्य , न्याय , कर्तव्य पालन  , ईमानदारी   आदि  सद्गुण  हैं ,  वही    व्यक्ति  अपनी  शक्ति  का  सदुपयोग  कर  सकता  है  l     लेकिन  यदि  राजनीतिक,  सामाजिक , आर्थिक ,  प्रशासनिक   आदि  किसी  भी  क्षेत्र  में  शक्ति  किसी  ऐसे  व्यक्ति  के  हाथ  में  आ  गई   जो  अपराधी  है ,   अहंकारी  है  जिसमे  छल - कपट , बेईमानी  आदि  दुर्गुण  है   तो  ऐसे  व्यक्ति  से  शक्ति  के  सदुपयोग  की  कल्पना  करना  ही  व्यर्थ  है   |     ऐसे  व्यक्ति  अपने  परिवार को ,  समाज  को  और  धीरे -धीरे  पूरे  राष्ट्र  को   दुष्प्रवृती  के  मार्ग  पर  धकेल  देते  हैं  l   बुराई  का  मार्ग  सरल  है   इसलिए  ऐसे  लोगों  का  संगठन   देश - विदेश  सब  जगह  संक्रामक  रोग  की  तरह  फैलता  ही  जाता  है  |   ऐसे  में  किससे  शिकायत  करें ,  कौन  न्याय  करे ,  कौन  किसे  दंड  दे  ?  -----  ऐसी  परिस्थिति  में  ही  प्राकृतिक  प्रकोप ,  आपदाएं ,  युद्ध  आदि  स्थिति  उत्पन्न  होती  हैं    l
  समाज  में  जागरूकता  जरुरी  है    ,  लोग  समझें  कि  उनका  सच्चा  हित  किसमे  है   |
    

Friday, 14 April 2017

अशान्ति का कारण है ----- युवा वर्ग दिशाहीन है

     हम  सब  एक  माला  के  मोती  हैं  ,  कोई  एक   फूल  मुरझा  जाये    तो  वह  माला  भी  धीरे - धीरे  मुरझाने  लगती  है    l  आज  स्थिति  ये  है  कि  ऐसे  लोग  मिलने  कठिन  हैं  जो    सकारात्मक  कार्यों  में   लगे  हों  l   जो  लोग  अच्छा  कमाने  लगते  हैं  वे   अपना   शेष  समय  नशा ,  पार्टी ,  आदि  बुरी  आदतों  में  गंवाते  हैं  |
  जिन  लोगों  के  पास  कोई  रोजगार  नहीं  है  ,  वे  अपना  समय  नारेबाजी , जुलूस,  बड़े  लोगों  की  जी - हुजूरी   जैसे  नकारात्मक  कार्यों  में  अपनी  ऊर्जा  और  अपनी  जिन्दगी  के  अमूल्य  दिन  गंवाते  हैं   |  
    कोई  भी  परिवार हो ,  समाज  या  राष्ट्र  हो  --  उसकी  तरक्की  और  खुशहाली  तभी  संभव  है  जब  उसके  सदस्यों  की    ऊर्जा    सकारात्मक  कार्यों  में  लगी  हो   l