Friday, 22 September 2017

अशांति का कारण है -- मनुष्य सरल रास्ते से तरक्की चाहता है

  धन - दौलत  और  पद - प्रतिष्ठा  हर  व्यक्ति  चाहता  है   l  महत्वाकांक्षी  होना  अच्छी  बात  है  ,  लेकिन  आज  के  समय  में   लोगों  में  धैर्य  नहीं  है  ,  सब  कुछ  बिना   मेहनत  के  और  बहुत  जल्दी   पा  लेना चाहते  हैं  l   इसके  लिए   ऐसे  लोगों  के  पास  एक  ही  तरीका  है --- जिसके  माध्यम  से    सब  कुछ  अति  शीघ्र   हासिल  हो  सके  ,  उसकी  खुशामद  करो  l  लोग   इस  कदर   चापलूसी   करते  हैं  जैसे  वह  व्यक्ति  भगवान  हो  ,  जिसमे  उनके  भाग्य  बदलने   की    क्षमता   हो  l
  इस  एक  दोष  के  कारण  समाज  का  वातावरण  दूषित  होता  है  l  जिसकी चापलूसी    की   जाती  है   उसका  अहंकार  उसके  सिर  चढ़  जाता  है    वह  सब  पर  अपनी  हुकूमत  चलाना  चाहता  है  l  
  जो  चापलूसी  करता  है   वह    धन - सम्पदा  तो   इकट्ठी  कर  लेता  है   लेकिन   अपनी  योग्यता  नहीं  बढ़ाता,  उसका  व्यक्तित्व  खोखला  हो  जाता  है  l   वह  भी  अपने  लिए  चापलूसों   की  भीड़  चाहता  है   और  इसके  लिए  हर  प्रकार  के  तरीके  अपनाता   है ,  इसी  कारण  समाज  में  अशांति होती  है   l 

Wednesday, 20 September 2017

WISDOM ----- वेश - विन्यास से अपनी राष्ट्रीयता और संस्कृति का परिचय मिलता है

 चिकित्सा  विशेषज्ञों  का  मानना  है  कि  तंग  वस्त्र  और  शरीर  का  प्रदर्शन  करने  वाले  वस्त्र   स्वास्थ्य  की  द्रष्टि  से  उपयुक्त  नहीं  हैं  l   अपनी  संस्कृति  के  प्रति  श्रद्धा  रखने  वाले  लोगों  का  विचार  है  कि    ऐसे  वस्त्रों  में  विवेकहीनता  और  फूहड़पन  झलकता  है   l   अपने  देश ,  अपनी  संस्कृति   के  अनुरूप  पहनावा  ही  इस  बात  कि  सूचना  देता  है  कि  हम  राजनीतिक  रूप  से  ही  नहीं  ,  मानसिक  और  संस्कृतिक  रूप  से  भी  स्वतंत्र  हैं  l
  बात  उन  दिनों  कि  है  जब  विश्वविख्यात   रसायन  वैज्ञानिक   डॉ. प्रफुल्लचंद्र  राय  कलकत्ता  विश्वविद्यालय में  प्रोफेसर  थे  l   पूरे  देश  में  स्वाधीनता  के  लिए  राष्ट्रीय  भावनाएं  हिलोरें  ले  रहीं  थीं  l   डॉ.  प्रफुल्लचंद्र  राय   का  अंतर्मन  इनसे  अछूता  न  रह  सका   l   अपने  वैज्ञानिक  कार्यों  के  बीच   राष्ट्र प्रेम  को  किस  तरह  निभाएं   ?  यह  जानने  के  लिए  वे  गांधीजी  से  मिलने  गए   l
          गांधीजी  ने  उन्हें  ऊपर  से  नीचे  तक  देखा  और  कहा --- " राय  महाशय  !  इतनी  भी  जल्दी  क्या  थी  जो  आप  ऐसे  ही  चले  आये  l "   महात्मा  गाँधी  कि  बात  ने  उन्हें  हैरानी  में  डाल  दिया  ,  तब  गांधीजी  ने     कहा ---- ------             " विदेशी  ढंग  के  कपड़े  पहन  कर  सही  ढंग  से  राष्ट्र  सेवा  नहीं  की  जा  सकती   l  राष्ट्रीय  मूल्य , राष्ट्रीय  भावनाएं   एवं  राष्ट्रीय  संस्कृति  ,  इन  सबकी  एक  ही  पहचान  है , अपना  राष्ट्रीय  वेश - विन्यास  l "  अब  बापू    बातें  प्रोफेसर  राय   की    समझ  में  आ  गईं  l  उस  दिन  से  उन्होंने  अपना  पहनावा     पूरी  तरह  बदल  डाला  l  देशी  खद्दर  का  देशी  पहनावा   जीवन  के  अंतिम  क्षणों  तक  उनका   साथी  रहा   l 

Tuesday, 19 September 2017

संस्कृति की रक्षा जरुरी है

  भारतीय  संस्कृति    को  मिटाने  के   अनेकों  प्रयास  हुए   लेकिन   ' कुछ  बात  है  कि  हस्ती  मिटती  नहीं  हमारी   l '  
   आज  हम  सबको  जागरूक  होने    की  जरुरत  है   l    कहीं  दंगा  हो ,  बम विस्फोट  हो  ,  दहशत   की     वजह  से  जानमाल  की   हानि  हो   तो  उस  क्षेत्र  विशेष  के  लोग  उस  घटना  को  भूल  नहीं   पाते  l    डर  उनके  ह्रदय  में  समां  जाता  है  ,  सामान्य   स्थिति  में  आने  में  बहुत  समय  लग  जाता  है   l
  हम  बच्चों  के  कोमल  मन    की   कल्पना  कर  सकते  हैं  ,  स्कूलों  में  बच्चों  को  टार्चर  किया  जाये ,  किसी  बच्चे  का  मर्डर  हो  जाये ,  अज्ञात  कारण  से  किसी  बच्चे    की    स्कूल  में  मृत्यु  हो  जाये   तो  ऐसी  घटनाओं  का   सीधा   प्रभाव    बच्चों  के  आत्मविश्वास  पर  पड़ता है  ,  वे  भयभीत  रहने  लगते  हैं  ,  उनका  सही  मानसिक  विकास  नहीं  हो  पाता ,  आत्मविश्वास  डगमगाने  लगता  है   l  ऐसी  घटनाएँ   बच्चों  के  सम्पूर्ण  व्यक्तित्व  को  प्रभावित  करती  है    l
  एक  देश  का  वैभव  उसका  कुशल और  आत्मविश्वास  से  भरपूर  मानवीय  संसाधन  है   l   आज  के  बच्चे  ही  ,  कल  देश  की  कार्यशील   जनसँख्या   हैं  ,  देश  का  भविष्य  हैं   l  ऐसे  आतंकियों  से  उनकी  रक्षा  करना ,  उन्हें  संरक्षण  देना   अनिवार्य  है  l 

Monday, 18 September 2017

अन्याय और अत्याचार समाप्त क्यों नहीं होता ?

    अपराधी  यदि  पकड़  में  न  आये  ,  उसे  दंड  का  भय  न  हो ,  तो  उनके  हौसले  बुलंद  हो  जाते  हैं  और  उनके  भीतर  कायरता  बढ़ती  जाती  है  l     बच्चों    की    हत्या  करना   कायरता   की   चरम  सीमा  है  l  न्याय  की  अपनी  एक  प्रक्रिया  है   l     अपराध  इसलिए  बढ़ते  हैं   क्योंकि  समाज  संगठित  रूप  से  अपराधियों  का  बहिष्कार  नहीं  करता   l  बुरे  से  बुरा व्यक्ति  भी   समाज  में  अपनी  प्रतिष्ठा  बनाये  रखने  के  लिए    चेहरे  पर  शराफत  का  नकाब  ओढ़े  रहता  है  l   समाज  के  लोग  उसकी  असलियत  को  जानते  भी  हैं    लेकिन  अपने  छोटे - छोटे  स्वार्थ  के  लिए वे उससे  जुड़े  रहते  हैं  ,  ' गिव  एंड  टेक '  चलता  रहता  है       जनता  जागरूक  होगी  ,  संगठित  होगी  तभी  समस्याओं  से  मुक्ति  है   l   विज्ञान  ने  मनुष्य  को  इतना  बुद्धिमान  बना  दिया  है  कि  ' कठपुतली '   की    डोर  किसके  हाथ  में  है ,  यह  जानना  कठिन  है  l

Friday, 15 September 2017

वर्तमान के आधार पर ही भविष्य का निर्माण होता है

  सुनहरे  भविष्य  के  लिए  हमें  वर्तमान   में  ही  प्रयास  करना  होगा  l  बालक - बालिकाओं  का  जीवन  सुरक्षित  न  हो ,  युवा  पीढ़ी  के  जीवन  को  सही  दिशा  न  हो ,  अश्लीलता  अपने  चरम  पर  हो   और  जो  समर्थ  हैं  वे  धन , पद  और  प्रतिष्ठा   की   अंधी  दौड़  में  लगे  हों  ,  तो  भविष्य  कैसा  होगा  ?
    आज  लोगों  का  अहंकार  इस  कदर  बढ़  गया  है  कि   वे  बच्चों  को  निशाना  बना  कर ,  देश  के  भविष्य  पर , संस्कृति  पर  वार  कर   अपने   अहंकार  को  पोषित  कर  रहे  हैं   l
 जिस  प्रकार  दंड  का  भय  न  होने  से   व्यक्ति  अपराध  करता  है , अनैतिक  और  अमानवीय  कार्य  करता  है  ,      यदि  कठोर  दंड  का  भय  हो  तो  लोग  अपराध  करने  से  डरेंगे   जिससे  वातावरण  में  सुधार  होगा  l 

Thursday, 14 September 2017

संवेदनहीन समाज में अशान्ति होती है

  अब  लोगों  में  संवेदना  समाप्त  हो  गई  है  और  कायरता  बढ़  गई  है  l   भ्रूण  हत्या ,  छोटी  बच्चियों  के  साथ  अनैतिक   कार्य ,  स्कूल  में  पढने  वाले  बच्चों   की    निर्मम  हत्या ---- यह  सब  व्यक्ति  की  कायरता  के  प्रमाण  हैं  l  बाहरी  आतंकवाद  को  तो  सैन्य  शक्ति  मजबूत  कर  के  रोका  जा  सकता  है  लेकिन  देश  के  भीतर  ही  पीछे  से  वार  करने  वाले  आतंकियों  को  रोकने  से  ही  समाज  में  शान्ति  होगी  l  जिनके  ह्रदय  में  संवेदना  सूख  गई  है  ,    तो  इस  संवेदना  को  जगाने  का  , पुन:  हरा - भरा  करने  का  कोई   तरीका  नहीं  है  l   केवल  एक  ही  रास्ता  है --- ऐसे  अपराधियों  को  कठोर  और  शीघ्र  दण्ड  दिया  जाये   l  समाज  को  जागरूक  होना  पड़ेगा ,  जो  लोग  अपराधियों  को  संरक्षण  देते  हैं   उनका  सामूहिक  बहिष्कार  करें  l 

Wednesday, 13 September 2017

बच्चों तुम तकदीर हो कल ------- ?--? __-- ?---

   बच्चे  ही  किसी  देश  का  भविष्य  होते  हैं    लेकिन   जहाँ    छोटी  सी  उम्र  के  कोमल  बच्चों  को  मार  दिया  जाता  हो  ,  ऐसी  घटनाओं   से   अन्य  बच्चे    भयभीत  हों   और  भय  के  वातावरण  में  पल कर  युवा  हों   तो   वह  समाज  कैसा  होगा  ?  इसकी  कल्पना  की  जा  सकती  है  l
   दंड  का  भय  समाप्त  हो  जाये ,  अपराधियों  को  संरक्षण  देने  वाले  अनेक  ' आका '  हों    तो  ये  अपराध  कैसे  रुकेंगे  l   सर्वप्रथम  हमें  ऐसे  लोगों  को  ' जो   छुप  कर  निहत्थे   और  मासूम  बच्चों '   की   अमानवीय  तरीके  से   हत्या  करते  हैं ,  और  जो  इन्हें  पनाह  देते  हैं ,  उन्हें  एक ' नाम ' देना  पड़ेगा  क्योंकि  यह  केवल  हत्या  नहीं  है ,   देश  के  भविष्य  के  साथ  खिलवाड़  है   l